Custom Search

Saturday, October 18, 2008

मैंने गाँधी को नहीं मारा

यह फ़िल्म मैं खुले दिमाग से देखने बैठा, केवल इस किर्न्द से की शायद यह स्किजोफ्रेनिया के ऊपर है। इसने तो मुझे शुरू से ही हिला दिया। अनुपम खेर और उर्मिला माटोंडकर के प्रदर्शन मेरी आंखों में आँसू ले आयी।

फ़िल्म में अनुपम खेर को एक रिटायर्ड हिन्दी का अध्यापक दिखाया है, जो धीरे-धीरे बुढापे की ओर जाते-जाते, अनिश्चित रूप से, डिमेंशिया/सुदो-डिमेंशिया/अल्ज्हिएमेर्स से पीड़ित हो जाता है। इसकी चित्रांकन मनन को हिला देने वाली है। यह बहुत अच्छी फ़िल्म है एक ऐसी बीमारी जिसमे व्यक्ति चीजें भूलने लगता है। मेरे बहते हुए आँसू ही बहुत हैं। मैं और कुछ नहीं कहना चाहूँगा।

Friday, August 15, 2008

मानसिक रोग मैं काम करने वाले एन.गी.ओ.

यह एन.गी. ओ की लिस्ट ना तो बहुत बड़ी है, और न ही हम अपनी तरफ़ से इन संस्थाओं की गारंटी लेते हैं। परन्तु यह संस्थाएं मानसिक रोग से जुड़े व्यक्तियों के भले के लिए काम करते हैं, और हमें आशा है की आप सबको इसका लाभ होगा। हमने पूरी कोशिश की है की सभी संपर्क सूचनाओं मैं कोई गलती ना रहे ताकि आपको इनसे संपर्क करने मैं कोई परेशानी न हो। यह लिस्ट हम अंग्रेज़ी मैं ही छाप रहे हैं क्योंकि बहुत बार अलग जगाओं को अलग-अलग जगह पर अलग नाम द्वारा जाना जाता है।

Other Informative Sites

Search the website http://www.ngosindia.com and http://www.justdial.com, using keywords like “Mental Health” OR “Mental Illness” OR “Mental Disability” for state-wise listings of more NGO’s/Help-lines/Psychiatric Institutions

Alphabetical (State-wise)

Andhra Pradesh


SEWA (Social Education & Welfare Association)

Address –

Kurmayapalli( V)

Budithireddipalli( P)

via: Yadamari, Chittoor(dist), Andhra Pradesh - 517422

Contact Info -

Mobile: +91-98854 15037

Email: vreddysatheesh@gmail.com

________________________________________________

BSRF - Byrraju Foundation

Address - Satyam Enclave 2-74, Jeedimetla Village NH-7, Secunderabad - 500855, Hyderabad (Andhra Pradesh) India
Contact Person - Dr. JOHNSEY THOMAS

Contact Info -

Phone Nos : +91-040-23191725, 23193881/82 (10 am - 4:00 pm)

Fax: +91-40-23191726
E-mail: mail@byrrajufoundation.org
Website - www.byrrajufoundation.org/

Byrraju Foundation
Address - Venkatraju Nagar , Near Youth Club, J P Road, Bhimavaram - 534 204, West Godavari (Dist)
Andhra Pradesh, India

Phone Nos: +91-8816-251340, 251360

Byrraju Foundation
Address - Bhatnavalli (v), Opp-KIMS Hospital, Amalapuram- 533 222, East Godavari (Dist), Andhra Pradesh, India

Phone Nos: +91-8856-233000, 253533, 230307

Byrraju Foundation
Address - Via Ponnur, Pittalavanipalem Mandal, Khazipalem- 522 329, Guntur (Dist), Andhra Pradesh , India

Phone Nos: +91-8643-258586


Assam

Ashadeep

Address - ASHA DEEP, Islampur Road, Gandhi Basti , Guwahati – 781 003, Assam, India

Contact Person –

Mukul Goswami: +91- 94350 43308
Anjana Goswami: +91- 98640 77861

Contact Info –

Phone Nos: +91-361-2666794

E-mail - societyashadeep@yahoo.com

Website - http://ashadeepindia.org


Chandigarh

AATMA SHAKTI KENDRA


Address (Regd. Office) - Karuna Sadan, Sector 11-B, Chandigarh, India

Contact Info -

Phone Nos: +91-172-746160
Mobile: +91-98150-69700
Fax : +91-172-576900

E-mail : ask_chandigarh@rediffmail.com

Website : www.ChandigarhNewsLine.com/AskChandigarh


Delhi

Ashray Rehabilitation Home

Address - Singhu Border Road, Narela, Delhi – 110040

Contact Person – Dr. Gurmukh Singh, +91-9891260359

________________________________________

Caring Foundation

Address - 35 Defence Enclave, Vikas marg, New Delhi – 110092, India

Contact Info -

Phone Nos: +91-011-43666666

Fax: +91- 011-22524726

E-mail: Caringfoundation95@yahoo.com

___________________________________________

Mental Health Foundation India
Address - RZF-766/41, RAJ NAGAR, PART-II, GALI NO. 6, PALAM COLONY, New Delhi - 110 045

Contact Person - Dr.Nand Kumar
Phone Work - 26166596 (6 t0 8 pm)
Phone Cell - 9899943146 (6 to 8 pm)

Contact Info -

Phone Nos: +91- 9899943146 (office time)
E-mail: indiamhf@yahoo. co.in
Website: www.mhf.org.in


Gujarat

Athma Viswas Sansthalay (Half-way Home)

Address – Behind Swami Narayan English School, Sona Sarita Society, Manibaug, Dharampur Road, Valsad, Gujarat – 396001

Contact Person –

Bipin Milia (Trustee): +91-022-26702755 (R), +91-022-26205530 (O), +91-9821537662

Sonia Mackwani (Managing Trustee): 65162697, +91-9221339756

Contact Info -

Phone Nos: +91-2632-226355

E-mail: bipinmilia@hotmail.com

_____________________________________________________

Andhjan Kalyan Trust

Address – Behind Jain Derasar, Station Plot, Dhoraji - 360 410, Rajkot, Gujarat , India

Contact Info –

Phone: +91-2824-223502
Fax: +91-2824-223502

E-mail – aktrust@sancharnet.in, info@aktrust.org

Website: http://www.aktrust.org/


Karnataka

Athma Shakti Vidyalaya Society

Address - No. 113, Madhuban Colony, Hulimavu Village, BANGALORE - 560 076, India

Contact Info -

Phone Nos: +91-80-6581 564 / +91-80-6585 292

E-mail: frhanknunn@hotmail.com

_________________________________________________

The Richmond Fellowship Society

Address - 'ASHA' 501, 47th Cross, 9th Main, V block, Jayanagar, Bangalore - 560 041, Karnataka

Contact Person - Dr S. Kalyanasundaram

Contact Info -
Phone Nos: +91-80-26645583, 26346734
Email: rfsindia@vsnl.com
Website: http://www.rfsindia.org



Madhya Pradesh

Samarpan - Samarpan Care Awareness & Rehabilitation Centre
Address - 8, Narayan Bagh, Indore – 452 004, Madhya Pradesh

Contact Person - Mr. Avinash Bhatheja
Phone Work - 4965560 (10-4)
Phone Cell - 09827740999 (10-6)

Contact Info -

Phone Nos: +91-0731- 4965560 (10 am - 5 pm)
E-mail: samarpanindia@ yahoo.co. in, info@samarpanindia.org
Website – http://www.samarpanindia.org

Day Care Centre - Arpan

Address - 18-B Navratan Bagh, Indore- (M.P.)

Phone Nos: +91-731-4046336

Half Way Home - Aasra

Executive Office: 61, Dhar Kothi, Indore- (M.P.)
Phone Nos: +91-731-2710931


Maharashtra

Alzheimer's & Related Disorders Society Of India-ARDSI

Address - ARDSI,Mumbai Chapter,Room No - 27, BMC School Bldg,2nd Floor, J J Hospital Compound, Byculla, Byculla (E), Mumbai – 40008, Maharashtra

Contact Nos -

Phone Nos: +91-022-23742479 (11 to 4)

E-mail: sailesh2000_2000@yahoo.co.uk, drshirin@rediffmail.com

Contact Person - Dr.Shirin Barodawala

Phone Work - +91-23513253 (9 to 5)

Phone Cell - +91-9820074476 (10 to 4)

____________________________________________

ANAND REHABILITATION CENTRE

Address - Vidula Apartment, Ram Laxman Marg, Panchal Nagar, Near ST Bus Stand, Nallasopara (West),
Taluka: Vasai, Dist: Thane 401 203, Mumbai, Maharashtra

Contact Info -

Phone Nos: +91-2414145 / 2415555 /code from Mumbai-95250-STD Code: 0250

A PROJECT OF
PROMPT CARE INTERNATIONAL FOUNDATION

Address - 8/203,204, Liliyangar, off S.V.Road, Near Kamat Club, Goregaon (West) Mumbai 400 062, Maharashtra

Contact Info -

Phone Nos: +91-28748043

Fax: +91-28757051

Email: pcif@vsnl.com

Website: www.pcif.org

__________________________________________________

Shraddha Rehabilitation Foundation

Registered Office

Address - Shraddha Manosarovar, Behind Shanti Ashram, Opposite Eskay Resorts, Off New Link Road, Borivali – West, Mumbai-400103, Maharashtra, India

Contact Info –

Phone Nos: +91-22-28955020 / 28915451 / 65852628


REHABILITATION CENTRE

Contact Person – Dr. Bharat Vatvani

Address – Vangaon Village, 2 kms from Karjat Station, Karjat (East), Raigad, Maharashtra

Contact Info -

Phone Nos: +91-99230 76947 / +91-02148-202741

E-mail - svatwani@hotmail.com, doctors@shraddharehabilitationfoundation.org

____________________________________________

MBA Foundation
G.O.D.S’ HEAVENS

Address - Crystal Palace Complex, Rambaug, Powai, Mumbai 400 076, Maharashtra, India

Contact Info -

Phone Nos: +91-2857 6972 / 2570 2018
Tele-Fax : 2857 4456.
Email : crbmanian@lifeCare-disabled.org, lifecare.disabled@gmail.com
Website: www.lifecare-disabled.org

DAY CARE CENTERS

G.O.D.S SMILES

Address - C 1/1, Jeevan Naiya Co-op. Hsg. Society, Behind Telephone Exchange, Chembur Naka, Chembur, Mumbai – 400 074

Contact Info -
Phone Nos: +91-22-25234752

ROTARY G.O.D.S GIFT
Address - Rotary Club of Thane North End, Khopri Bridge, Thane East

Contact Nos -
Phone Nos: +91-22- 69956878

________________________________________________

Silver Inning Foundation

Address - Mumbai, India

Contact Info -

Tel: +91- 99871 04233

E-mail: info@silverinnings.com

Website - www.silverinnings.com

Contact Person - Sailesh Mishra , Founder President

_______________________________________________

Dilasa – Self-Help Support Group

Address – Masina Hospital, Byculla, Mumbai (Dr. Matcheswala’s Counseling Center)

Contact Person –

Prashant Pednekar: +91-9920644723

Jatish Shah: 9819533496

Contact Info –

Phone Nos: +91-022-64507171

E-mail: Shah_jatish@hotmail.com

­_______________________________________________________

Kiran Mental Health Association (Schizophrenia Support Group)

Phone Nos: +91-022-22671744

____________________________________________________

Bapu Trust (Pune)

Contact Person - Ms. Bhargavi Davar/Puja

Contact Info -

Phone Nos: +91-92255 20464, +91-020-26837644/647

E-mail Address: bvdavar@gmail.com

Website: www.camhindia.org

Center for Advocacy in Mental Health

Address - Kapil Villa, Plot no. 9, Survey No. 50/4, Kondhwa Khurd, Pune-411048

Contact Info -

Phone Nos: +91-020-26837644/47
Email: wamhc@dataone.in, info@camhindia.org

______________________________________________________

Institute for Psychological Health-IPH

Address - 9th Floor, Shree Ganesh Darshan, LBS Marg, Between 3 Petrol Pumps & Hari Nivas Junction, Naupada, Thane (west). 400602. Maharashtra, India

Contact Person - Mr.Prasad Dabholkar
Phone Work - 25366577 (9 to 5)

Contact Info -

Phone Nos: +91-022-2543 3270 / 2536 6577 / 2542 8183 / 98702 96694
E-mail: iph@healthymind. org, maitra@healthymind.org
Website: www.healthymind.org


Incomplete / Unconfirmed Info -

Chitanya Mental Health Care Centre
Address - 25 Pitruchaaya Laxmi Park Colony, Navi Peth, Pune - 411030
Contact Info -

Chaitanya Mental Health Care Centre

Address - #9, Samalka Park, Kondhwa Budruk, National Institute of Bank Management, Pune-411048


Orissa

PEOPLE'S FORUM

Address - 44-Dharma Vihar, Khandagiri Sqr, Bhubaneswar, Orissa,India-751030

Contact Info -

Phone Nos : 0674- 2384594 (9am -6pm)

Tel/Fax: 06742351688

E-mail: peoplesforum@hotmail.com

Website: http://www.missionashra.org

Contact Person - Mr.Gobinda Pattanaik
Phone Work - 2384594 (9am-6pm)
Phone Cell - 9437282034 (6am-9pm)


Rajasthan

Ma Madhuri Brij Varish Seva Sadan

Address - Achnera Village, Bajhera, Bharatpur – 321001, Rajasthan, India

Contact Person - Dr.B.M. Bhardwaj
Phone Work - 05644-224694 (Any time)
Phone Cell - 9414714493

Contact Info -
Phone Nos: +91-5644- 224694 (10am - 6pm)
E-mail: mmbvss@gmail. com
Website - www.mmbvss.org


Tamil Nadu

Anbaham - Trust for education and rehabilitation of disabled orphaned destitute
Address - ANBAHAM, vichoor main road,vichoor, Chennai – 600103, Tamil Nadu

Contact Person - Mr.mohammed rafi
Phone Cell - 09444009988 (9-19 hours)

Contact Info -
Phone Nos : +91-044- 25015165 (11-12.noon)
E-mail: anbagam.org@ gmail.com, vinodcv@hotmail. com
Website: www.anbaham.org

___________________________________________________

Schizophrenia Research Foundation (India)
SCARF

Address – R-7A North Main Road, Anna Nagar West (Extn.), Chennai 600 101, Tamil Nadu, India

Contact Info –

Phone Nos: + 91-44-2615 3971, + 91- 44-2615 1073

_________________________________________________

THE BANYAN

Address – 6th Main Road, Mugappair Eri Scheme, Mugappair west, Chennai-600037

Contact Info –

Phone Nos: +91-044–26530504 / 45548350 / 51 / 52
Fax: 044 – 26530105

THE BANYAN CENTRE

Address – 18/55 Vinobaji Street, opp Kamaraj 4th Street, Gandhi Salai, Choolaimedu
(Take road opposite Bata Showroom on Nelson Manickam Road, adjacent to Pantaloons.
5th right, 1st left, 1st right)

Contact Info –

Phone Number: 42233666

BALM
Banyan Health Centre,

Address – 2/242, Pillayar Koil Street, Kovalam Village, Kancheepuram – 603112

Contact Info –

Website - www.thebanyan.org

_________________________________________________________

Trust Shantivanam

Contact Person - Dr. K.Ramakrishnan, c/o The Athma Mind Centre and Institute of Neuro-Psychiatry

Address - 12B, 10th Cross East, Thillainagar, Trichy, Tamil Nadu - 620018

Contact Info -

Phone: +91-431-2741529, +91-9894722221

E-mail: krk.trust@gmail.com

Website: http://www.trustshanthivanam.org/


West Bengal

Anjali

Address - P-23, Darga Road,Park Circus, Kolkota – 700017, West Bengal

Contact Person - Ms. Ratnaboli Ray
Phone Work - 22903711 (11-5 pm)
Phone Cell - 98311823981 (11-5 pm)

Contact Info -
Phone Nos: +91- 033- 22903711 (11-5pm)
E-mail: anjali_mhi@vsnl. net
Website: www.anjalimentalhealth.org

Wednesday, August 13, 2008

नवीनतम जानकारी

हम काम कर रहे हैं एक सूची तैयार करने की, उन 'एन.जी.ओ' संस्थाओं की जो मानसिक रोग के सुधार के लिए भारत वर्ष मैं काम कर रही हैं। हमारी कोशिश है की यह १६ अगुस्त के तुंरत बाद ही डाल देन। आशा है की यह उन लोगों को फायदा देगी जिन्हें 'डे-केयर' की सुविधाएँ चाहियें, खासकर वृद्ध लोगों के लिए।

यह सूचि एक नए पोस्ट मैं होगी, और 'एन.जी.ओ.' के नाम्पर्ची अवेम 'Links' ke द्वारा पायी जा सकती है।

आप सबको हमारी शुभकामनायें।

Saturday, July 26, 2008

Rain Man / रेन मैन (अंग्रेज़ी)

निर्देशक बेरी लिविंसों की यह फ़िल्म, जिसमे टॉम क्रूज़ और दुस्तीं होफ्फ्मन कलाकार हैं, दिखाई गई है एक आदमी (दुस्तीं होफ्फ्मन) जिसे औटीस्म है। उसकी यादार्ष बहुत अच्छी है परन्तु उसे काफी कुच्छ, जो आम आदमी के लिए हर रोज़ का काम हो, उसे समझने मैं परेशानी होती है। टॉम क्रूज़ उसका भाई दिखाया है, जो कम उम्र मैं अपना घर छोड़ कर चला गया, और अपने भाई के बारे मैं जाना भी तब, जब उसके स्वर्गवासी पिता की करोड़ों की रकम उसके भाई के नाम कर दी गयी।

यह फ़िल्म एक बहुत अच्छा उधारंद है मानवता के संबंधों के सहज शातिग्रस्थ होने की, और कैसे बीमारी को समझने और प्यार और समझदारी से उसे सँभालने की क्षमता की। टॉम क्रूज़ फिर भी अपने भी को जुआ खिलवाता है अपने पैसे बनने के लिए।

इस फ़िल्म के कलाकारी मैं कोई कमी नही है, परन्तु सोरिंग-हैट्स ही इस बीमारी को ठीक से दिखाय जाने या न जाने के बारे मैं और बता सकेंगी।

यह फ़िल्म ४ ऑस्कर जीत चुकी हैं।

Tuesday, July 22, 2008

मदद की राह पर

मन मैं तनाव किसको नही होता। हर नई जिंदगी की सीध पर ऐसे मोड़ आते हैं जो हमें सोच मैं दाल देते हैं। कभी किसी के प्रिय को बुख्खार हो जाए, तो अपना दर्द भी बध्ध जाता है। कोई ऐसी बीमारी जिसका ईलाज सालों साल बीते, वेह पीड़ित और जो उसके प्रिय हों, सबको हिला कर रख देता है। हम बहुत देर से ऐसे रोग देखते आएं हैं जो हमें दिखती हैं, एक खुले घाव की तरह। परन्तु मानसिक तनाव बहुत देर तक चले, तो समस्या सबके लिए और भी गंभीर हो जाती है। हमारा मन जितना ही फुर्तीला है, उतना ही धीमी गति से भी दौड़ सकता है, जितना चौकन्न है, उतना ही नासमझ्दार हो सकता है। इतना पुराना मन का तनाव इस प्रकार बढ़ता है, जैसी अन्तरिक्ष मैं से कोई पत्थर गिर्र रहा हो। इसे जान लेना, बहुत ज़रूरी है, और उतना ही फैदेमंद।

तनाव हर मनुष्य को हो सकता है - स्त्री को, और पुरूष को, बच्चे को, और बुधे को, गाँव और शहरों मैं। केवल समय-विशेष का अन्तर है। तनाव, बस यही शब्द है जिसे हम मन के हर प्रकार की समस्या को दे देते हैं। बस यही - एक तनाव। आज विज्ञापन ने इतने तरक्की कर ली है, परन्तु फिर भी हम वापस जाते हैं ओझा, पंडित, मौलवी इत्यादि के पास। मैंने यह नही का की यह सब ग़लत है। अपने पुर्न्द विशवास से हटने को नही कह रहा मैं। बस इतना की वेह आपकी सामने की समस्या को देखने से अंधाधुन्द न कर दे। परन्तु समस्या तो यह है की आपको कुछ दिख ही नही रहा। मैं जानता हूँ, मैं जानता हूँ की समस्या का समाधान करने के लिए समस्या का पता लगना मुमकिन हो। मैं आजसे कितने साल पुरानी बात बताता हूँ, जब विज्ञापन ने मन के रोगों को जानना शुरू ही कीया था, एक 'रेसेर्पीन' नामक रसायन को पेढ़ से निकाला था, भारतीय विज्ञापनों नैन, मानसिक रोगों का इलाज करने के लिए। आज वही रसायन लैब मैं बनता है जिससे मेरा इलाज शुरू हुआ था। आज आपका सामने मैं यह लिख रहा हूँ सोचने की हालत मैं। आशा यह करता हूँ की मैं आपको दिखला दूँ वही गलतियां जो मेरे माता पिता ने भी की थीं मुझे मनोवैज्ञानिक के पास न लेजाकर, इतने समय तक। "मैं पागल हूँ", वेह कहेंगे। यही सोच थी मेरे माता-पिता की। मैं उनको दोष नहीं देता। एक हिंदू परिवार मैं होके, बहुत यजना किए मुझे ठीक करने के लिए। अगर थोडी जल्द ही ले गए होते, तो अपनी डिग्री शायद सातवे साल तक नही चल रही होती। मैं पागल था, शायद कह सकूँ की अभी भी हूँ, केवल इसलिए, की मैं हिंदुस्तान के लोगों मैं बदलाव देख सकूँ, देख सकूँ फिल्मों मैं, रेडियो पर, आम जनता मैं, एक अपनापन देख सकूँ...

Friday, July 18, 2008

स्कित्जोफ्रेनिया

इस बीमारी मैं एक ऐसी व्यवस्था हो जाती है, जिसमे रोगी सच्चाई और अपनी ख़ुद की बनाई दुनिया के बीचों-बीच अन्तर नही जान पाटा। हर रोगी को अलग किस्म के अनुभव अवं कल्पनायें होती हैं अपनी दुनिया की।

१) ज़्यादातर बीमार व्यक्ति को भय होता है की कोई उसे या उसके प्रिय को नुक्सान पहुँचने की कोशिश मैं है।
इस व्यवस्था को पेरानूइड के नाम से जानते हैं।
२) दूसरा किस्म है जिसमें व्यक्ति एक ही जगह पे, एक ही तरह से स्थिर हो जाता है, और बहुत देर बाद हिलता है, कभी कभी तो इतनी देर की उसका बदन नीला पड़ने लगता है। इसकी घटित होने की संभावना ज्यादा उन् देशों मैं या उन जगह मैं कम है जिनमें भाषा विकसित है। इस व्यवस्था को काट्टोनिया कहतें हैं।

काफ़ी समय तक रोगी को ऐसी आवाजें सुनी पढ़ सकती हैं जो असलियत मैं हैं नही, या चीजें दिखाई देने लगें। क्योंकि इन व्यक्तियों का दिमाग यह खेल खेल रहा है, इसलिए समझाना भी काफ़ी बार बेकार सा पढ़ जाता है। समझने की शक्ति भी कम हो जाती है और काम करने की आशा भी नही रहती।

आम तौर पर, पुरुषों मैं यह १३-१४ वर्ष मैं शुरू होता है, और लड़कियों मैं २३-२७ की उम्र के बीच। बूद्धों को अगर इसी प्रकार की बीमारी हो, तो उससे पेराफ्रेनिया का नाम देते हैं। कई बार ८ साल के बच्चों मैं भी यह हो जाता है। हर देश मैं, तकरीबन ०.१% की जनता मैं यह दिमागी हालत पाई जाती है।

इनका इलाज दवाइयां ही कर सकती हैं, जिसके साथ साथ व्यक्ति के ठीक होने की शक्ति, अवेम सबका समर्थन भी ज़रूरी है।

दाएं ओउर मैं जो इसी नाम का लिंक है, वेह इस विषय की बहुत जानकारी देता है, यहाँ तक की पंजाबी, बंगाली, और उर्दू मैं भी।

Monday, July 14, 2008

अपरिचित

जैसे इस फ़िल्म का नाम बताता है, यह फ़िल्म एक ऐसे स्तिथि की बात बताती है जिसमे एक मनुष्य को अपनेआप से परिचय न हो। इसमे एक व्यक्ति के एक से अधिक अस्तित्व होते हैं, और वे अपने अनेक अस्तित्व के मौजूदगी के बारे मैं नही जानता/जानती। इससे स्प्लिट-पेर्सोनालिटी या मल्टीपल-पेर्सोनालिटी दिसोर्द्र के नाम से जान जाता है, किंतु नै खोज द्वारा, अब इसका नाम दिसोसिअतिवे-इदेंतिती-दिसोर्देर (दी.आई.दी.) है। इससे पीड़ित व्यक्ति को अलग-अलग प्रकार से अपने अस्तित्वओं मैं बाहरी दुनिया का एहसास होता है। यह बिमारी बहुत कम मातृ मैं पायी जाती है, और पूरी दुनिया मैं इस बिमारी के केवल ५० व्यक्तिगत विव्रंद हैं।

यह फ़िल्म तामिल मैं बनायी गयी है, पर मैंने इससे हिंदी मैं देखि है क्योंकि मैं तामिल नही समझता। फ़िल्म बहुत ही विचित्र प्रकार से बनाई गयी है, काफ़ी नयी तकनीकियों का भी प्रयोग किया गया है। महत्वपुर्न्दा कलाकार ने अपना चरित्र भी बहुत अच्छे से निभाया है। कलाकार के असली रूप से अलग, उसके २ और रूप दिखाए गएँ हैं, पहेला जिसमे वह खूनी है, और दूसरा एक आशिक।

फ़िल्म के चित्रंद मैं सबसे बड़ी गलती यह है, की जब उसके दिमागी हालत को जांचा जा रहा था, तो कोई ई.ई.जी नही ली गयी। उसके पहले, खुनी रूप मैं, उसको अपनी आँखे हिलाते बहुत दिखाया गया है, और केवल इन दो वजह से, यह भी कहा जा सकता था की उसे एपिलेप्सी भी हो। किन्तु फ़िल्म बहुत अच्छे से बनाई गयी है और अंत मैं यही कह सकते हैं की यह दी.आई.दी की कल्पना है।

सावधान: यह कमज़ोर दिल वालों के लिए नही है।

Tuesday, June 24, 2008

तारे ज़मी पर

यह एक ऐसी फ़िल्म है जिसने पूरी दुनिया को हिला दिया है। इसमें 'ईशान' को, जो बहुत कम उम्र का है, अपनी पढाई मैं मुश्किलों का सामना करते दिखाया है। जब वह अपने स्कूल से भाग जाता है मौज-मस्ती करने, तो उसके पिता उसे एक 'बोर्डिंग' स्कूल मैं भेज देतें हैं। वहां पर, उनका नया कला सिखाने वाला अध्यापक पहचान लेता है की उसे डिस्लेक्सिया है. वे उसे ख़ुद अलग से पढाता है ताकि वेह पढाई मैं पीछे न रह जाए।


यह फ़िल्म भारत के परिवारों की, और उनके अटूट बंधनों के बारे मैं बताती है और कैसे एक मानसिक रोग इनके धागों के कच्चेपन की भी झलक दिखलाता है। मैं कहना चाहूंगा की उस बच्चे को कोई सीखने की बीमारी न होकर, एक अलग से सीखने की शक्ति थी।

इसकी कलाकारी मैं कोई कमी नही है, और बिमारी का चित्रण भी सही है। मेरी जानकारी मैं बहुत कम लोग हैं जो इस फ़िल्म को देखके रोये नहीं हैं। इससे देखना न भूलें।

इसमें अध्यापक की भूमिका "अआमिर खान" ने निभाई है, और इसके निर्देशक भी वाही हैं। और जानकारी पाने के लिए आप "www.wikipedia.com" पे भी पा सकते हैं।

Saturday, April 12, 2008

बाईपोलर

अगला रोग जिसके बारे में मैं बताना चाहूँगा, है 'बाईपोलर' एक सरल द्रिश्तिकोंद से, इस रोग में पीड़ित व्यक्ति थोड़े समय के लिए डिप्रेशन में चले जाता है, और कुछ समय बाद एकदम उत्तेजित हो जाता है, जिसमें वे बिना अपने फैसले का परिन्दाम सोचे, ग़लत फैसले ले बैठता है इसका भी सबसे आम उधारंद है बिना सोचे पैसे खर्च करते जाना, यह जानते हुए की उसके पास और पैसे नही हैं इस अलग किस्म की उत्तेजित स्तिथि में, पीड़ित व्यक्ति के दिमाग में ख़याल भागने लगते हैं, हर वस्तु उसके लिए रंग-बिरंग हो जाती है, नए आविष्कारों के सोच आते हैं, जिनमे से बहुत कम युक्तिसंगत प्रतीत हों, और धीरे-धीरे ख़याल इस प्रकार से तेज़ हो जाते हैं, की उनको 'पकड़ना' असंभव हो जाता है अर्थात, इतने सारे ख़याल इकट्ठे आते जाते हैं, की इससे पहले एक ख़याल को समझने का वक्त मिले, अनेक और ख़याल चलते हैं, और वह पीड़ित व्यक्ति एकदम काम करना बंद कर देता है, क्योंकि उसकी सोच में, कुछ समय के लिए बाधा जाती है यह डिप्रेशन और उत्तेजित स्तिथि (मेनिया) , एक पेन्द्युलुम की तरह होती है, एक वक्त डिप्रेशन तो अगली घड़ी मेनिया डिप्रेशन और मेनिया के बीच में कभी तो महीनों गुज़र सकते हैं, और अलग किस्म के बाईपोलर में, एक ही दिन में बार मन की स्तिथियाँ बदल सकती हैं

ओ.सी.दी.

अब मैं बताता हूँ .सी.दी. के बारे में यह एक ऐसी परिस्थिति है जिसमे इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को किसी भी प्रकार की चीज़ करने के ख़याल आते रहे और वेह वही चीज़ दुहराते जाए। इसका सबसे सरल और आम उधारंद है की पीड़ित व्यक्ति को अपने हात मेले लगें और उन्हें घंटों तक साबुन से धोते जाए जब तक उसके हाथों से खून बहने लगे इसके एक उल्टा उधारंद, जिसकी समस्या मुझे थी, है की मुझे जो भी कचरा पड़ा मिल जाता, उसे अपने खाने में इकठ्ठा करता जाता (जब तक मेरे पिताश्री ने उसे फ़ेंक नही दिया) सफाई हो या कचरा इकठ्ठा करना, यह रोग पीड़ित को इतना परेशान कर देता है की वे कुछ काम करने की हालत में नही रहता इस रोग का प्रकतिकरंद केवल इस रूप में नही होता जो की दिखाई दे यह ऐसे भी हो सकता है की पीड़ित के मस्तिष्क में एक ख़याल, किसी बात को बार बार दुहराने के लिए मजबूर कर दे मेरे साथ ऐसा हुआ था की मैं घंटों भर एक ही गाने की धुन गाता रहता जब तक सुबह से संध्या हो जाती इस प्रक्तिकरंद से इस रोग का पता लगना और भी मुश्किल हो जाता है

रोगों का परिचय - डिप्रेशन / अवसाद

एक महीना होने को रहा है, और मैंने पोस्ट लिखने शुरू भी नहीं किए! मुझे बहुत बुरा डिप्रेशन हो गया था, जो बहुत दिन चला मुझमे ही कोई आशा, और ही कोई हिम्मत थी दातुन करने की, कई दिनों तक, और नहाना तो मैं भूल ही चुका था बहुत मुश्किल से, और सोरिंग-हाइट्स के बहुत समर्थन द्वारा मैं अपने विश्वविद्यालय के परीक्षा दे पाया, और वे भी अच्छी तरह

यह डिप्रेशन होता क्या है? परन्तु इससे बड़ा प्रश्न यह है की डिप्रेशन और अन्य मानसिक रोग होते क्यों हैं? प्रश्न जितना सरल लगे, उतना है नहीं अपने अपने विश्वास या विषय की विशय्श्यगता के अनुसार, लोगों ने अपने अपने अर्थ दिए हैं मैं हर अर्थ को मानने के लिए तैयार हूँ, दुविधा बस यह है की उस अर्थ की कोई नींव होनी चाहिए, उससे मदद मिलनी चाहिए पीडितों को अपनी ज़िंदगी सरल बनने में। मेरी कोशिश यह है की आपके सामने हर एक अर्थ को हर दृष्टि से रखूं ताकि आप मदद ले उस अर्थ से जो आपको सही लगे

डिप्रेशन एक ऐसा रोग है जिसमे एक पीड़ित व्यक्ति को बहुत उदासी हो जाती हैयह उदासी अधिक दिन तक चलती है, अगर वेह व्यक्ति थोड़ा ठीक महसूस करे और हँसने भी लगे, यह उदासी कुछ समय बाद लौट आती हैऐसी हालत में , यह बहुत मामूली सी बात है की वेह नहाना, दातुन करना, अपने शरीर की स्वच्छता का ध्यान करना बंद कर देउसे ऐसा महसूस हो सकता है की ज़िंदगी का जैसे कोई मकसद नही है, और वेह आत्महत्या की भी करेपरिवार और बाहर की खुशियों का उस पर शायद कोई असर होउसके स्वभाव से भी लगे की वेह बहुत बेमन से जी रहा है, और उसकी बातें परिवार वालों को और मित्रो को बहुत ही गंभीर लगेंउसे शरीर में हर समय दर्द महसूस हो, और उठने-बैठने की हिम्मत होउसे कोई काम करने की भी इच्छा होपरिवार वालों को ऐसा लग सकता है की वेह आलसी हो गया या गयी है और काम नही करना चाहतापरिवार वाले उसे काम करने के लिए कह कह कर परेशान हो जाएंइससे वेह और भी दुखी हो सकता है

Thursday, March 13, 2008

सोरिंग-हाइट्स का परिचय

सोरिंग-हाइट्स एक मनोवैज्ञानिक हैपहले तो यह जानना ज़रूरी है की मनोवैज्ञानिक और मनोरोग-चिकित्सक मैं क्या अन्तर है। मनोरोग-चिकित्सक एक चिकित्सक होता है जिसे नुस्खा लिखना आता हो। मनोवैज्ञानिक एक वैज्ञानिक होता है जो व्यक्तियों के मॅन और व्यवहार की रीति का अध्ययन करता है। वह मदद करता है मनोरोग-चिकित्सकाओं को सही नुस्खे की तालाश करने की।

सोरिंग-हाइट्स अनेक अस्पतालों में, अनेक मनोरोग के प्रति काम कर चुकी हैं। मुख्य रूचि स्कित्ज़ोफ्रएनिआ मैं है। अपनी पढ़ाई मैं वे शुरू से प्रथम रही हैं। वे बहुत ही होनहार वैज्ञानिक हैं और उन्होंने मेरी सोच में परिवर्तन ला कर मेरी ज़िंदगी को एक नया रूप दिया है। हम आशा करते हैं की इस ब्लॉग के माध्यम से आपकी भी मदद कर पाएंगे।

Thursday, March 6, 2008

मेरा परिचय

मैं आप सबको अपने बारे में एक छोटा सा परिचय देना चाहूँगा, यह बताने के लिए की मैं भी उन्ही समस्याओं का सामना कर चुका हूँ जिनमे से आप या आपके प्रिय गुज़र रहें हों। मैं मानसिक रोग से पीड़ित हूँ और मुझे अपने अस्तित्व पर गर्व है। मुझे गर्व है की मैं उन चंद व्यक्तियों में से हूँ जो ऐसी परिस्थितियों मे से गुज़ारा हो जिन्हें पाने की न तो किसी की इच्छा हो और न ही किसी को आशा। लोग समझ बैठते हैं की म यह ैं कह रहा हूँ क्योंकि मैं निकल चुका हूँ इन रोग की बुरी नज़रों से। शायद वे सही हैं। मैं नहीं चाहता की किसी और को इन मुश्किलों का सामना करना पढे। इसीलिए मैं यह ब्लॉग लिख रहा हूँ। मुझे बस गर्व अपने रोग का इसलिए है क्योंकि पिछले करीबन ग्यारह वर्षों से, इसमें समां जाने से ले कर, इससे बाहर निकल आने की कई कोशिशों ने मुझे मनुष्य जीवन अथवा मस्तिष्क की ऐसी सीख दी हैं जो इसके बिना शायद सम्भव न होतीं। इसका यह मतलब नहीं की जो इन मुश्किलों का सामना न करे, वह ज़िंदगी को बारीकी से नहीं देख पाएगा। आखिरकार हर व्यक्ति अद्वितीय है, एक अनमोल रत्न है

मैं ग्यारह बरस का था जब मुझे रट लग गयी गाने सुनने की, पुरा दिन वही कैसेटपढ़ाई में मुझे दिक्कत होने लगी और बहुत कम अंकों से अगली कक्षा में जा पायाअगले दो साल इतनी महनत करी की जैसे वह एक साल बढे होने का एक हिस्सा थाजब चौदाहन वर्ष का हुआ मेरे ख़याल कुछ ज़्यादा मजबूत हो गएऐसा लगा जैसे अब मुझमे इतनी हिम्मत गयी हो की किसी भी कठिनाई का सामना कर पाऊंधीरे धीरे, मेरे बिना समझे, मेरे ख्यालों ने एक ऊँचा स्वर ले लियावे मुझे सुनने देने लगेचंद बरस बीत गएहर कक्षा में पास होना मुश्किल हो गयामैंने एक ऐसे व्यक्तित्व को अपना लिया जिससे मुझे लगता था की सिर्फ़ मैं ही दुनिया को बचा सकता हूँउन ऊँची आवाजों के साथ बातें करने लगा, मन ही मन मेंअपने परिवार वालों को अपना दुश्मन मानने लगाबात करना बंद कर दियानींद का तो नामो निशाँ रहाघर का माहौल बिगड़ गयाघर से कई बार भागा, भटक भटक के फिर वापस जाताकटे हुए शव दिखाई देतेकई बार आत्महत्या करने की कोशिश की। अठारह बरस का हुआ, और अपने बोर्ड के अन्तिम परीक्षा से पहले अस्पताल में भरती कराया गया जब मेरी आत्महत्या की कोशिश कामयाबी पर थीअभी तक मेरे माता पिता को समझ नहीं रहा था की मेरा व्यवहार ऐसा क्यों हैमुझे एक मनोवैज्ञानिक के पास भी ले गए थे, परन्तु कोई फरक न पड़ाअब, मेरे माता पिता, जिन्हें मनोरोग-चिकित्सक से एक किसम का भय था, इस विचार से की वे सबको पागल बना देते हैं, मुझे एक मनोरोग-चिकित्सक के पास ले ही गएमुझे कह दिया गया की बस थोड़ा सा मन में तनाव हैतबियत मेरी कुछ ठीक होने लगीएक साल बाद पता लगा की मुझे स्कित्ज़ोफ्रेनिया हैधीरे धीरे यह भी अहसास हुआ की मुझे .सी.डी, यानी, मनोग्रस्त्ता बाध्यकारी की बीमारी भी है

आज मैं पचीस बरस का होने लगा हूँ, इन्जिनीरिंग कर रहा हूँ, और मेरी ज़िंदगी में बाधा डाल रही है मेरी बाईपोलर की बीमारी, जिसके कारंद मैं कभी उदासी मैं चला जाता हूँ, और कभी मेरा दिमाग इतना फुर्तीला हो जाता है की विचारों को पकड़ नही पाता, यानी, अपनी सोच को ही समझने का समय नही मिलतामुश्किलें और भी बहुत आती हैं, जिनका ज़िक्र इस ब्लॉग में आगे चलकर होता रहेगाज़रूरी बात बस यही हैं की आप समझने की अपेक्षा रखें


Wednesday, February 27, 2008

नई आशा

यह मेरा पहला हिंदी मैं ब्लॉग है। मेरी मातृभाषा तो हिंदी ही है, परंतु हिंदी मैं लिःखे हुए मुझे करीबन दस अपने अंग्रेज़ी ब्लॉग की साथी साथी मेरी कुछ ख़ास नहीं है और लिख्त गलतियाँ भी कर बैठता हूँ। यह केवल मेरी हिंदी की अध्यापीका हैं, जीनसे मुझे बहुत लगाव है, जिन्होंने हिंदी भाषा में मेरी रूचि बनाए रखी और उसे सुधारा भी। यह पहली बार है की मैं ट्रांस्लितेरेशन का इस्तेमाल कर रहां हूँ। मुझे अभी तक समझ नहीं आया है की 'की' मैं छोटी मात्रा कैसे डालते हैं। यह पोस्ट मेरे लिए एक अभ्यास की तरह ही है। आपको इस अभ्यास में बस एक प्राकथन बताना चाहता हूँ जो मेरी ताई ने मुझे चंद महीने पहले -मेल कीया था। उनको भी याद नहीं की यह किसने कहा था -

"लीक पे चलें वोह, चरण जीनके दुर्बल और हारें हों,
हमें तो, जो हमारी यात्रा से बनें, ऐसे अनीर्मीत पंथ ही प्यारे हैं।"

अगर कीसी को पता चले की यह कीसने कहा है, तो कृपया
मुझे सूचीत करें। एक नई और तंदरुस्त जीवन की आशा में, मैं, अपने अंग्रेज़ी ब्लॉग की साथी, सोरींग-हाइट्स आप सबको इस रहस्य भरे मन की खुछ कीरदें, हमारे दृष्टीकोंद के द्वारा, आपको दीखाते रहेंगे।